Skip to content

डिजिटल मार्केटिंग क्या है हिन्दी मे? [ What Is Digital Marketing In Hindi? ] – WebInHindi

What Is Digital Marketing In Hindi

दोस्तों आज के इस ब्लॉग मे हम जानने वाले है की डिजिटल मार्केटिंग क्या है हिन्दी मे? [ What Is Digital Marketing In Hindi? ] तथा इससे रिलेटेड और भी बहुत सारे सवालों के जवाब इस ब्लॉग मे दिया जाएगा जिससे आपको डिजिटल मार्केटिंग के बारे मे [ About Digital Marketing In Hindi ] ज्यादा से ज्यादा जानकारी हो सके।

डिजिटल मार्केटिंग क्या है? [ What Is Digital Marketing In Hindi? ]

डिजिटल मार्केटिंग एक प्रकार का ऑनलाइन मार्केटिंग है जिसके मदद से आप किसी भी बिजनस या चीज का इंटरनेट के द्वारा प्रचार और प्रसार करते है, अभी के समय मे सबसे ज्यादा महत्व इंटरनेट को दिया जा रहा है और लोग इंटरनेट पर ही सबसे ज्यादा समय देते है।

इसी को देखते हुए एक नया मार्केटिंग आया जिसको डिजिटल मार्केटिंग या इंटरनेट मार्केटिंग कहा जाता है जो की किसी भी बिजनस का प्रचार करने मे मदद करता है, जैसे की आप जानते है की पहले के समय मे अगर नया कोई बिजनस शुरू करता था तो उस समय शहर के दीवारों पर या शहर के चौराहों पर होर्डिंग लगा के प्रचार किया जाता था।

लेकीन अभी के समय मे वो थोड़ा कम हुआ है क्योंकि वही चीज को लोग फेसबूक, गूगल और इंस्टाग्राम के मदद से प्रचार कर रहे है, इससे फायदा भी बहुत है जिसके बारे मे आगे हम जानेंगे, और सबसे बड़ी बात ये है की जो लोग आपके बिजनस मे लगाव रखते है उन्ही को आपके बिजनस के बारे मे दिखाया जाएगा जिससे की कन्वर्शन का चांस ज्यादा हो जाएगा।

इसलिए लोग ज्यादातर अनलाइन ही ऐड्वर्टाइज़ करते है जिससे की उनको सही लोग मिल सके, इसलिए अभी के समय मे ज्यादा से ज्यादा लोग इसका पढ़ाई करते है और अपना बिजनस शुरू करते है।

डिजिटल मार्केटिंग के फायदे [ डिजिटल मार्केटिंग से क्या लाभ है? ]

अगर आप डिजिटल मार्केटिंग के फायदा [ Benefits Of Digital Marketing In Hindi ] जानना चाहते है तो वो निम्नलिखित है –

कम पैसा मे ज्यादा काम।

इसका मतलब ये है की इसमे आपको कम पैसा लगेगा और ज्यादा से ज्यादा काम होगा, जैसे की एक उदाहरण से समझाता हूँ की अगर आप अपना बिजनस के बारे मे टेम्पलेट से प्रचार कीजिएगा तो उसमे आपको 1 रुपया छपने मे लगेगा 2 रुपया उसको बँटवाने मे लगेगा ऐसे मिलाकर अगर देखा जाए तो 1 टेम्पलेट को किसी को देने मे आपको 3 रुपया के लागत लग रहा है।

अगर आपको 1000 लोगो तक उस टेम्पलेट को पहुंचाना हो तो आपको 3000 रुपया लगेगा लेकीन वही अगर आप डिजिटल मार्केटिंग मे 3000 रुपया लगा देते है तो आप कम से कम 20000 लोगो तक पहुच सकते है और अपना बिजनस के प्रचार कर सकते है, इसलिए मैं इसको कम पैसा मे ज्यादा काम बोलत हूँ।

टारगेट ऑडियंस मिलेंगे।

इसका मतलब ये है की अगर आप टेम्पलेट के मदद से 1000 लोगो तक अपना बिजनस का प्रचार कीये तो आपको उसमे से 30 ना 40 लोग मिलेंगे जो की आपके बिजनस मे लगाव होगा और वो आपके लिए फायदेमंद होगा लेकीन वही अगर आप डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा काम करटे है तो इसमे आपको 20000 के 20000 लोग आपके बिजनस मे लगाव रख रहे होते है।

जिससे की आपको ज्यादा से ज्यादा कस्टमर मिलने का चांस है तो ये फायदा डिजिटल मार्केटिंग का है और इसी के कारण लोग डिजिटल मार्केटिंग के उपयोग कर रहे है।

कम समय लगेगा।

इसका मतलब ये है की अगर आप टेम्पलेट से अपना प्रचार करते है तो उसमे आपको कम से कम 1 दिन लग जाएगा लेकीन वही अगर आप काम डिजिटल मार्केटिंग के मदद से करते है तो आपको 1 घंटा मे लाखों लोग तक पहुच सकते है, इसलिए डिजिटल मार्केटिंग का महत्व दिया जा रहा है और लोग अनलाइन की ओर भाग रहे है।

ब्रांड के बारे मे लोग जानेंगे।

अगर आप कहीं छोटे शहर मे कोई बिजनस शुरू कीये है तो लोग आसानी से जान सकते है की आपका एक बिजनस शुरू हुआ है जो की यहाँ पर है और वहाँ पर ये समान मिलता है या ये काम होता है और अगर किसी को जरूरत होगा तो वो आसानी से उसको शेयर भी कर सकता है।

डिजिटल मार्केटिंग का कोर्स कितने दिन का होता है?

डिजिटल मार्केटिंग का कोर्स इस चीज पर निर्भर करता है की आप कहाँ से कर रहे है, जैसे की अगर आप किसी कोचिंग या इंस्टिट्यूट से कर रहे है तो वहाँ पर 3 से 6 महीने का होता है, लेकीन वही अगर आप उसको कॉलेज से कर रहे है तो उसमे आपको 2 साल तक समय लग सकता है, और अगर आप ऑनलाइन कर रहे है तो लोग 1 महीने मे ही आपको सीखा देंगे।

इसका सबसे बड़ा फंडा ये है की आप जितना समय दीजिएगा उतना बढ़िया से सीखिएगा क्योंकि इसमे आपको अच्छे से प्रैक्टिकल करना होता है उसके बाद आप कितना दिमाग लगा सकते है एक बिजनस को प्रोमोट करने मे इत्यादि चीज मे समय लगता है और अगर आप कम समय वाला कोर्स करते है तो उसमे ऐसा कुछ देखने को नहीं मिलेगा।

इसलिए हो सके तो आप या तो कॉलेज से कर सकते है या फिर किसी कोचिंग मे जाकर ऑफलाइन मे ही पढ़ सकते है जिससे की आपका डाउट क्लेयर हो सके और आपको ज्यादा से ज्यादा ध्यान पढ़ाई मे लग सके, क्योंकि ऑनलाइन मे सिर्फ विडिओ सीरीज होता है और उससे ज्यादातर समझ मे नहीं आता है तो उस समय आपको पूछने वाला होना चाहिए।

डिजिटल मार्केटिंग में क्या सिखाया जाता है?

डिजिटल मार्केटिंग मे आपको ये सिखाया जाता है की किसी बिजनस को बिना पैसा के या फिर पैसा लगाकर कैसे प्रोमोट कर सकते है जिससे की ज्यादा से ज्यादा आपके बिजनस का रीच मिले और आपका काम चलता रहे जैसे की अगर आप अपना वेबसाईट पर ट्राफिक लाना चाहते है तो दो तरीकों से ला सकते है, पहला SEO के मदद से और दूसरा Ads शो करके।

अगर आप SEO के द्वारा करते है तो इसमे आपको समय लगेगा लेकीन इसमे आपको एक भी रुपया खर्च नहीं होगा क्योंकि ये सब के सब काम ऑर्गैनिक होगा और सही रिजल्ट देगा लेकीन वही अगर आप Ads के मदद लेते है तो उसमे आपको सिर्फ पैसा ही देना है जिससे की आपका Ads शो होता रहे और लोग उसपर क्लिक करके आपके वेबसाईट मे आते रहे।

तो ये दोनों चीज आपको इसमे सिखाया जाएगा की SEO कैसे काम करता है और SEO के लिए आपके वेबसाईट मे क्या क्या चीज होना चाहिए, उसके साथ ही अगर आप Ads शो करना चाहते है तो Ads मे क्या शो करना है और कैसे पैसा लगाना है इत्यादि भी डिजिटल मार्केटिंग मे सिखाया जाएगा।

डिजिटल मार्केटिंग कितने प्रकार के होते हैं?

Digital Marketing निम्नलिखित प्रकार के होते है-

  • सर्च इंजन आप्टमज़ैशन ( SEO )
  • सर्च इंजन मार्केटिंग ( SEM )
  • सोशल मीडिया मार्केटिंग ( SMM )
  • ईमेल मार्केटिंग
  • कंटेन्ट मार्केटिंग
  • यूट्यूब मार्केटिंग

सर्च इंजन आप्टमज़ैशन ( SEO )

जैसा की नाम से ही पता चल रहा है की सर्च इंजन के अनुसार अपने वेबसाईट को आप्टमाइज़ करना जिससे की आपके वेबसाईट जल्दी से रैंक करे और गूगल से ऑर्गैनिक ट्राफिक आपको मिल सके होता है, जिसमे बहुत सारे फैक्टर होते है जिससे की आपका वेबसाईट जल्दी से जल्दी रैंक करता है।

सर्च इंजन मार्केटिंग ( SEM )

इसका मतलब ये है की अगर आप अपना वेबसाईट को बिना आप्टमाइज़ कीये सर्च इंजन मे सबसे ऊपर दिखाना चाहते है तो उसके लिए इस मेथड का उपयोग होता है और इसमे पैसा लगता है जिससे की आपका वेबसाईट सबसे ऊपर दिखे और लोग उसपर क्लिक करके आपके वेबसाईट मे आ सके।

ज्यादातर इस मेथड का उपयोग अफिलीएट मार्कटर करते है क्योंकि उसको जल्दी से सेल चाहिए होता है और वो उतना इंतेजार नहीं कर सकते है की SEO के मदद से कब मेरा वेबसाईट ऊपर मे रैंक करेगा, इसलिए आप भी अगर ऐसा ही कुछ करना चाह रहे है तो इसके मदद से आसानी से कर सकते है।

सोशल मीडिया मार्केटिंग ( SMM )

इसमे आप सोशल मीडिया के मदद से अपना बिजनस को प्रोमोट कर सकते है जैसे की फेसबूक, इंस्टाग्राम इत्यादि पर, इसमे आप अपने बिजनस के बारे मे ग्राफिक डिजाइन कर सकते है जिससे की आपके बिजनस का बारे मे सब समझ मे आ रहा हो और उसको आप सोशल मीडिया पर एक कैम्पैन चला सकते है।

लेकीन बात ये है की इसमे आपको पैसा लगेगा लेकीन उतना नहीं लगेगा जितना सर्च इंजन मार्केटिंग मे लगता है, इसलिए आप इसमे थोड़े बहुत पैसे इन्वेस्ट करके काम कर सकते है।

ईमेल मार्केटिंग

इसके मदद से आप अपना बिजनस के बारे मे लोगो तक ईमेल के जरिए बता सकते है, जैसे की अगर आप कहीं से ईमेल ले लिए और उन सभी को अपना बिजनस का बारे मे ईमेल से बताने लगे तो उसको ही ईमेल मार्केटिंग कहते है और ये भी ज्यादातर लोग अफिलीएट मार्कटर ही उपयोग करते है।

कंटेन्ट मार्केटिंग

इसका मतलब ये है की आप वेबसाईट बनाए और उसमे आप Convincing Article लिखने लगे जिससे की लोग पढ़कर आपका बिजनस मे Interest रखने लगे तो उसको कंटेन्ट मार्केटिंग कहते है, जैसे की अभी आप मेरा वेबसाईट पर आकर कंटेन्ट पढ़ रहे है तो ये भी एक कंटेन्ट मार्केटिंग ही है।

जहां पर मैं आपको डिजिटल मार्केटिंग क्या होता है? [ ऑनलाइन विपणन क्या है? ] के बारे मे बता रहा हूँ और आप इसको पढ़ रहे है।

यूट्यूब मार्केटिंग

इसका मतलब ये है की आप अपना बिजनस के बारे मे लोगो को विडिओ के फोरम मे और यूट्यूब के जरिए बता रहे है तो उसको यूट्यूब मार्केटिंग कहते है, या फिर आप अपना किसी ज्ञान को लोगो तक यूट्यूब के जरिए पहुचाते है तो उसको यूट्यूब मार्केटिंग कहते है।

[ ये भी पढे ]

Conclusions

दोस्तों आशा करता हूँ की आपको आज का ब्लॉग पसंद आया होगा जिसमे मैंने आपको डिजिटल मार्केटिंग क्या है हिन्दी मे? [ What Is Digital Marketing In Hindi? ] के बारे मे डीटेल जानकारी दिया और अगर आपको इससे रिलेटेड किसी तरह के मन मे सवाल हो तो नीचे कमेन्ट जरूर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *